Russia Tests Hypersonic Cruise Missile: यूक्रेन से जंग के बीच पुतिन ने उठाया ऐसा कदम, सन्न रह गई पूरी दुनिया!

नई दिल्ली न्यूज़ भारत विदेश

russian missiles: यूक्रेन से युद्ध के बीच रूस ने बड़ा कदम उठाया है. रूस ने 1000 किलोमीटर की क्षमता वाली हायपरसॉनिक जिरकॉन क्रूज मिसाइल का सफल परीक्षण किया है.

यह जानकारी रूस के रक्षा मंत्रालय ने दी है. वाइट सी में इस मिसाइल ने निशाने को सटीकता के साथ भेद दिया. मंत्रालय की ओर से जारी वीडियो के मुताबिक इसे बैरेंट्स सी से दागा गया.

यूक्रेन युद्ध में रूस को भारी नुकसान

यह मिसाइल ध्वनि की गति से 9 गुना तेज है. रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने कहा कि इसकी तैनाती से देश की सैन्य क्षमता और बेहतर होगी. 3 महीने से यूक्रेन के खिलाफ चल रहे युद्ध में रूस को काफी नुकसान हुआ है. भारी तादाद में सैनिक मारे गए हैं. इसके बाद रूस ने हायपरसॉनिक मिसाइल का डेवेलपमेंट तेज कर दिया है.

यह पहली बार नहीं है, जब रूस ने जिरकॉन मिसाइल को टेस्ट किया है. व्हाइट सी में एडमिरल गोर्शकोव फ्रिगेट ने पिछले साल जिरकॉन क्रूज मिसाइल लॉन्च की थी. पश्चिमी देशों के साथ तनाव के मद्देजनर रूस लगातार अपने हथियार बेड़े को और आधुनिक बना रहा है. पिछले महीने रूस ने परमाणु क्षमता से लैस सरमट नाम की इंटरकॉन्टिनेंटल बैलिस्टिक मिसाइल का परीक्षण किया था, जो 10 या अधिक वॉरहेड्स ले जाने और अमेरिका पर हमला करने में सक्षम है. 2014 में यूक्रेन के क्रीमिया प्रायद्वीप पर कब्जा करने के बाद से रूस ने मिसाइल टेक्नोलॉजी में अपनी काबिलियत की दुनिया को याद दिलाने के लिए हाई-प्रोफाइल हथियारों का परीक्षण जारी रखा है.

जेलेंस्की ने किया जीत का दावा

इस बीच यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोदिमीर जेलेंस्की ने शुक्रवार को अपने दो संबोधनों में देश के पूर्वी हिस्से में हुई सबसे भीषण लड़ाई और यूक्रेन युद्ध में रूसी सेना पर आखिरकार जीत दर्ज करने की घोषणा की. जेलेंस्की ने कहा, ‘यूक्रेन एक ऐसा देश है, जिसने रूसी सेना की असाधारण शक्ति के मिथक को तोड़ दिया है. एक ऐसी सेना, जिसके बारे में माना जाता था कि वह कुछ ही दिनों में किसी को भी हरा सकती है.’ जेलेंस्की ने कहा, ‘अब रूस पूरे देश पर कब्जा करने की कोशिश कर रहा है, लेकिन हम यूक्रेन के भविष्य के बारे में सोचने के लिए काफी मजबूत स्थिति में हैं, जो पूरी दुनिया के लिए खुला रहेगा.’

Leave a Reply

Your email address will not be published.