MP NEWS:विंध्य की धरती ने एक हफ्ते के अंदर 3 बाघों को खोया, सतना में 2 बांधवगढ़ में 1

भारत मध्यप्रदेश न्यूज़

बांधवगढ़ टाइगर रिजर्व में 13 दिन के अंदर दूसरे बाघ की मौत हो गई है। बांधवगढ़ टाइगर रिजर्व के पनपथा रेंज में बुधवार की सुबह एक 10 वर्षीय बाघ का शव पाया गया है। इस बारे में मिली जानकारी के मुताबिक बाघ की मौत लड़ाई में हुई है।

बाघ के शव का पीएम कर पार्क में ही उसकी अंत्‍येष्टि भी कर दी गई।

फील्ड डायरेक्टर विंसेंट रहीम ने इस बारे में जानकारी देते हुए बताया कि मृतक बाघ के शव पर चोट के गहरे निशान थे और यह निशान ऐसे थे जैसे किसी तंदुरुस्त बाघ से मृत बाघ की फाइटिंग हुई हो। उन्होंने बताया कि हाथी गश्ती दल को पनपथा रेंज के मेडरा बीट के कंपार्टमेंट 488 में बाघ लेटा हुआ दिखाई पड़ा था।

हाथी दल ने जब इस बाघ को देखा तो सोचा कि शायद बाघ आराम कर रहा है। कुछ देर तो बाघ के शरीर में हरकत देखने को मिली लेकिन इसके बाद यह बाघ शांत हो गया। जब हाथी दल ने करीब जाकर देखा तो पाया कि बाघ की मौत हो चुकी थी। उसके शरीर पर गंभीर घाव दिखाई दे रहे थे।

इसके बाद घटना की जानकारी वन अधिकारियों को दी गई और तुरंत वन अधिकारी घटनास्थल पर पहुंच गए। घटना स्थल का निरीक्षण करने के बाद संजय धुबरी से डॉ अभय सेंगर को बुलाया गया जिन्होंने मृत बाघ के शव का पोस्टमार्टम किया और इसके बाद घटनास्थल से ही कुछ दूरी पर शव का दहन कर दिया गया।

9 अप्रैल को मिला था शावक का शव

इसी महीने की 13 तारीख को बांधवगढ़ टाइगर रिजर्व में एक बाघ शावक का शव दोपहर में पाया गया था। मृतक शावक की उम्र 6 से 8 महीने की बीच की बताई गई थी। यह बाघ शावक बाघिन टी 60 का बच्चा था।

इस बारे में जानकारी देते हुए बांधवगढ़ टाइगर रिजर्व के एसडीओ अनिल शुक्ला ने बताया था कि बाघ शावक की मौत संभवत तीन-चार दिन पहले हो गई थी, लेकिन शव झाडियों के बीच में पड़ा हुआ था जिसकी वजह से पता नहीं चल पाया।

बदबू आने पर 9 अप्रैल गुरुवार को जब सुरक्षा श्रमिकों ने झाड़ियों के नीचे झांका तो वहां बाघ शावक का शव पड़ा हुआ था। शावक के शव की मौत के पीछे भी वजह बड़े बाघ का हमला बताया गया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published.