Lic हाऊसिंग फाइनेंस कर रही कस्टमरों को परेशान, लोन क्लोज करने के लिए 4 माह से लगवा रही चक्कर

भारत


10% इंटरेस्ट का कहकर ले रहे 13% तक ब्याज, कर रहे धोखाधड़ी

उज्जैन । ऋषिनगर पेट्रोल पम्प के पीछे स्थित LIC HFL द्वारा ग्राहकों के साथ छलावा और परेशान करने का कृत्य लगातार किया जा रहा है, पहले तो कम ब्याज दर बताकर लोगो को अधिक ब्याज में ऋण टिका रहे है फिर लोन की किश्तें और उसे समाप्त करने में भी परेशानियां उत्पन्न कर रहे है । बैंक मैनेजर श्री सुंदरम अय्यर का अड़ियल रवैया और दुर्व्यहार कई ग्राहकों के लिए परेशानी का सबब बनता जा रहा है । इन्ही से परेशान ऋषिनगर निवासी एक ग्राहक प्रियंका ने बताया कि उन्होंने 6 साल पहले अपनी माता जी और खुद के नाम से एक गृह लोन लिया था, लोन के समय उन्हें रेट ऑफ इंटरेस्ट 10% बताया गया लेकिन ईएमआई में 13% तक इंटरेस्ट लिया गया ,5 साल तक यही इंटरेस्ट लिया गया जब इस पर लिखित आपत्ति दर्ज कराई तो 11 हजार का अतिरिक्त चेक लेकर इंटरेस्ट कम किया । दिसम्बर 2019 में मकान सेल करने के लिए lic से फोरक्लोजर लेटर लिया गया तब भी इन्होंने काफी चक्कर के बाद लेटर दिया जिसमें 625000/- का अमाउंट बताया गया जिसका चेक मकान खरीदने वाले ने yes बैंक से फाइनेंस कराकर इन्हें मार्च में दिया तो इन्होंने चेक लेने से मना कर दिया, इस दौरान दो महीने की किश्तें कट जाने के कारण अमाउंट कुछ कम हो गया जिसका समायोजन करने में इन्हें दिक्कते आ रही है और ग्राहक को 4 महीने से परेशान कर रहे है । जब इस सबंध में बैंक मैनेजर से चर्चा की तो उन्होंने सीधे मुंह बात तक नही की और अधिक राशि का चेक लेने से साफ इंकार कर दिया जिससे उपभोक्ता मां, बेटी परेशान हो रहLic हाऊसिंग फाइनेंस कर रही कस्टमरों को परेशान, लोन क्लोज करने के लिए 4 माह से लगवा रही चक्कर
10% इंटरेस्ट का कहकर ले रहे 13% तक ब्याज, कर रहे धोखाधड़ी

उज्जैन । ऋषिनगर पेट्रोल पम्प के पीछे स्थित LIC HFL द्वारा ग्राहकों के साथ छलावा और परेशान करने का कृत्य लगातार किया जा रहा है, पहले तो कम ब्याज दर बताकर लोगो को अधिक ब्याज में ऋण टिका रहे है फिर लोन की किश्तें और उसे समाप्त करने में भी परेशानियां उत्पन्न कर रहे है । बैंक मैनेजर श्री सुंदरम अय्यर का अड़ियल रवैया और दुर्व्यहार कई ग्राहकों के लिए परेशानी का सबब बनता जा रहा है । इन्ही से परेशान ऋषिनगर निवासी एक ग्राहक प्रियंका ने बताया कि उन्होंने 6 साल पहले अपनी माता जी और खुद के नाम से एक गृह लोन लिया था, लोन के समय उन्हें रेट ऑफ इंटरेस्ट 10% बताया गया लेकिन ईएमआई में 13% तक इंटरेस्ट लिया गया ,5 साल तक यही इंटरेस्ट लिया गया जब इस पर लिखित आपत्ति दर्ज कराई तो 11 हजार का अतिरिक्त चेक लेकर इंटरेस्ट कम किया । दिसम्बर 2019 में मकान सेल करने के लिए lic से फोरक्लोजर लेटर लिया गया तब भी इन्होंने काफी चक्कर के बाद लेटर दिया जिसमें 625000/- का अमाउंट बताया गया जिसका चेक मकान खरीदने वाले ने yes बैंक से फाइनेंस कराकर इन्हें मार्च में दिया तो इन्होंने चेक लेने से मना कर दिया, इस दौरान दो महीने की किश्तें कट जाने के कारण अमाउंट कुछ कम हो गया जिसका समायोजन करने में इन्हें दिक्कते आ रही है और ग्राहक को 4 महीने से परेशान कर रहे है । जब इस सबंध में बैंक मैनेजर से चर्चा की तो उन्होंने सीधे मुंह बात तक नही की और अधिक राशि का चेक लेने से साफ इंकार कर दिया जिससे उपभोक्ता मां, बेटी परेशान हो
हो रही है

Leave a Reply

Your email address will not be published.