AIMPLB ने मुसलमानों से की फ्रांस के उत्पादों का बहिष्कार करने की अपील

न्यूज़

ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड ने मुसलमानों से फ्रांस के उत्पादों का बहिष्कार करने की अपील की है. बोर्ड ने साफ किया कि पैग़म्बर के सम्मान की रक्षा करना हमारा दीनी एवं ईमानी कर्तव्य है. उनकी शान में गुस्ताखी बर्दास्त नहीं कि जाएगी. इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के सचिव व सोशल मीडिया डेस्क के प्रभारी मौलाना मुहम्मद उमरैन महफूज़ रहमानी ने कहा कि अल्लाह के रसूल मोहम्मद सल्ल. हमारे बच्चों, माता-पिता और हमारी जिंदगी से भी ज्यादा अजीज हैं. उनके पाकीजा किरदार के बारे में किसी भी प्रकार के अपशब्द असहनीय हैं.

मूहम्‍मद उमरैन ने कहा कि आए दिन पैग़म्बर के बारे में अशोभनीय टिप्पणियों की घटनाएं सामने आ रही हैं. इससे पहले फ्रांसीसी पत्रिका शार्ली अब्‍दो ने वर्ष 2006 और 2013 में पैग़म्बर के बारे में कार्टून प्रकाशित कर अपमान किया था. उन्होंने कहा कि हाल ही में फ्रांस के राष्ट्रपति मैक्रों ने इस्लाम और मुस्लिमों के ख़िलाफ भाषण दिया और फ्रांस के विभिन्न भवनों पर ईश निंदा के निशान लगाए गए. उन्होंने कहा कि ये किसी भी सूरत में बर्दाश्त नहीं किया जा सकता है. उन्होंने मुस्लिम समुदाय से अपना विरोध दर्ज कराने के लिये फ्रांस के सामान का बहिष्कार करने की अपील की.

मौलाना रहमानी ने कहा कि रबी उल अव्वल का महीना चल रहा है. यह महीना सरवर ए कायनात मोहम्मद साहब से संबंधित है, क्‍योंकि इसी महीने में आप सल्ल. पैदा हुए और आपकी मृत्यु भी हुयी. मौलाना ने कहा कि इस संबंध में पवित्र पैग़म्बर मोहम्मद साहब की शिक्षाओं और सीरत-ए-तय्यबा यानि उनकी जिंदगी को लोकप्रिय बनाने के लिए ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड की सोशल मीडिया डेस्क ट्विटर पर एक ट्रेंड रख रहा है. उन्होंने कहा कि यह क़दम निन्दात्मक रेखाचित्रों और कार्यों के लिए एक सकारात्मक प्रतिक्रिया होगी.

Leave a Reply

Your email address will not be published.