जानिये लाठी चार्ज की प्रक्रिया के बारे में क्या होती है ?

Articles

भारतीय संविधान में देश के प्रत्येक नागरिक को शांतिपूर्वक प्रदर्शन करने की अनुमति दी गयी है. इसके अनुच्छेद 19(1)(ब) के मुताबिक देश के सभी नागरिकों को इकट्ठा होकर शान्तिपूर्ण तरीके से विरोध जताने का अधिकार है. इसमें कहा गया है कि विरोध जताने के दौरान प्रदर्शनकारियों के हाथों में कोई हथियार नहीं होने चाहिए.

पुलिस को दंड प्रक्रिया संहिता (सीआरपीसी) – 1973, भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) – 1860 और पुलिस अधिनियम – 1861 के तहत किसी आंदोलन, विरोध प्रदर्शन और गैरकानूनी सभाओं को संभालने के लिए अधिकार दिए गए हैं.

सीआरपीसी की धारा-129, 130 में प्रदर्शनकारियों को प्रदर्शन स्थल से तितर-बितर करने के लिए सुरक्षा बलों का इस्तेमाल किस तरह से किया जाए, यह बताया गया है. धारा-129 के मुताबिक कार्यकारी मजिस्ट्रेट या संबंधित पुलिस स्टेशन का प्रभारी किसी ऐसे गैरकानूनी प्रदर्शन को तितर-बितर करने का आदेश दे सकता है, जिससे सामाजिक शांति बिगड़ने या हिंसा फैलने की आशंका हो.

अगर प्रदर्शनकारी पुलिस और प्रशासन के बार-बार कहने के बाद भी विरोध प्रदर्शन खत्म नहीं करते हैं तो उस स्थिति में कार्यकारी मजिस्ट्रेट या पुलिस स्टेशन का प्रभारी बलपूर्वक प्रदर्शन खत्म करवाने का आदेश भी दे सकता है.

भारत में पुलिस, भारत के ब्यूरो ऑफ पुलिस रिसर्च एंड डिवेलपमेंट, यूनाइटेड नेशन्स के कई प्रावधानों से बंधा हुआ है, जिसके अंतर्गत कुछ नियम और शर्तें भी आती हैं.

क्या हैं नियम और शर्तें?

  1.  इस तरह के कई तरीके इस रिपोर्ट में बताए गए हैं. BPRD ने कहा कि ये सारे तरीके फेल होने के बाद ही सीमित मात्रा में बल प्रयोग किया जाए.
  2.  भीड़ को बताया जाए कि अगर वो आगे बढ़ी तो उस पर बल का प्रयोग किया जाएगा. मतलब पहले वार्निंग दी जाए.
  3. उसके बाद आंसू गैस के गोलों का इस्तेमाल किया जाए. इससे भी बात न बने तो लाठी चार्ज किया जा सकता है.
  4.  लाठी चार्ज करते वक्त उतनी ही ताकत का इस्तेमाल किया जाए जितनी भीड़ के लिए जरूरी है. मतलब अगर 20 लोगों की भीड़ है तो 100 लोग लाठी लेकर न टूट पढ़ें.
  5.  लाठी चार्ज भी असीमित ताकत से न किया जाए. मतलब ये नहीं कि अगर भीड़ डर कर भागे तो उन्हें दौड़ा कर बेसुध होने तक पीटा जाए.
  6. लाठी चार्ज करते वक्त ध्यान रखा जाए कि सिर पर चोट न लगे. कैनचार्ज से हुई मौत की तुलना में पुलिस फायरिंग में हुई मौत की व्याख्या करना आसान है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.