सतना ब्रेक:- बैठक में Sonia Gandhi बोलीं, जल्दबाजी में लिया Lockdown का फैसला, लाखों मजदूर हो रहे परेशान।

Coronavirus


कोरोना वायरस से लड़ने के लिए देश में 21 दिन का लॉक डाउन किया गया है। देश में कोरोना संक्रमण से बिगड़ रहे हालातों को काबू में लाने की कोशिश की जा रही है। गुरुवार को एक तरफ जहां पीएम मोदी ने सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये बैठक की, वहीं दूसरी ओर कांग्रेस वर्किंग कमेटी की बैठक भी VC के जरिये हुए। बैठक के दौरान कोरोना संकट से उपजे देश के हालातों पर भी चर्चा हुई। पार्टी की अंतिरम अध्यक्ष सोनिया गांधी ने कहा कि मोदी सरकार ने Lockdown का फैसला जल्दबाजी में लिया गया है। खराब ढंग से लॉकडाउन लागू होने की वजह से लाखों मजदूरों को मुश्किलों का सामना करना पड़ा है।


बैठक के दौरान सोनिया गांधी ने कहा कि देश के सामने डराने वाली चुनौती है, ऐसे में इससे पार पाने का हमारा संकल्प उससे भी बड़ा होना चाहिए। उन्होंने कहा कि देश के डॉक्टर्स, हेल्थ वर्कर्स को लोगों के समर्थन की बेहद जरुरत है। उन्होंने सरकार से मांग की है कि सभी को हजमैट सूट, N-95 मास्क जैसे सभी निजी सुरक्षा उपकरण युद्ध स्तर पर उपलब्ध कराए जाने चाहिए।

लाखों मजदूर हो रहे प्रभावित

सोनिया गांधी ने कहा कि देश के लाखों मजदूर लॉक डाउन की वजह से प्रभावित हो रहे हैं। उनके रहने खाने के लाले पड़ गए हैं। इस दौरान अप्रत्यक्ष तौर पर सरकार पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि लॉक डाउन का सुनियोजित तरीके से क्रियान्वयन किया जाना चाहिए थे। इसके लिए सरकार को एक विस्तृत रणनीति बनाना चाहिए थी।


लॉकडाउन के बाद भी बिगड़ रही स्थिति!


देश में भले ही 21 दिन का लॉकडाउन कर दिया गया हो लेकिन कई इलाकों में इसका पालन नहीं किया जा रहा है। प्रशासन भी लोगों से लॉकडाउन का पालन कराने में असहाय नजर आ रहा है। कई राज्यों में तो डॉक्टर्स और स्वास्थ्यकर्मियों के साथ लोगों ने अभद्रता और मारपीट तक कर डाली है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.