संभागीय जनसंपर्क कार्यालय रीवा मध्यप्रदेश शासन

COVID-19

रीवा तथा शहडोल संभाग में आईसीएमआर के मापदण्डों के अनुसार हो रही है जांच – कमिश्नर

रीवा तथा शहडोल संभागों में एक लाख से अधिक व्यक्तियों की हुई मेडिकल जांच

रीवा 18 अप्रैल 2020. रीवा तथा शहडोल संभाग के कमिश्नर डॉ. अशोक कुमार भार्गव ने दोनों संभागों में कोरोना वायरस के नियंत्रण एवं बचाव संबंध में बताया कि दोनों संभागों में इण्डियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (आईसीएमआर) के द्वारा निर्धारित मापदण्डों के अनुसार कोरोना के संदिग्ध रोगियों की जांच की जा रही है। दोनों संभागों में अब तक एक लाख 7017 व्यक्तियों के नमूनों की जांच की गई है। इनमें रीवा संभाग में अभी तक 65 हजार 494 व्यक्तियों की जांच की गई है। इनमें संदिग्ध पाये गये 291 प्रकरणों में जांच के लिए सेम्पल भेजे गए जिनमें से 254 की रिपोर्ट निगेटिव प्राप्त हुई है। शेष की रिपोर्ट शीघ्र ही प्राप्त होगी। शहडोल संभाग में 41 हजार 527 व्यक्तियों की मेडिकल जांच की गई। इनमें से 118 के सेम्पल भेजे गए। जिनमें से 108 सेम्पल जांच के बाद निगेटिव पाये गये हैं। 10 सेम्पल की जांच के परिणाम अभी शेष हैं।
कमिश्नर डॉ. भार्गव ने बताया कि जो व्यक्ति बाहर से रीवा तथा शहडोल संभाग के किसी भी जिले में आये हैं उन्हें होम क्वारेंटाइन किया गया है। इनकी नियमित चिकित्सा जांच की जाती है। रीवा संभाग में 39 हजार 158 तथा शहडोल संभाग में 25 हजार 832 व्यक्ति होम क्वारेंटाइन किए गए हैं। स्वास्थ्य विभाग तथा शासन द्वारा कोरोना संक्रमण के बचाव तथा उपचार के संबंध में दिए गए निर्देशों का दोनों संभागों में कठोरता से पालन कराया जा रहा है। स्वास्थ्य कर्मियों तथा कोरोना मरीज के सम्पर्क आने वाले सभी व्यक्तियों की भी जांच अनिवार्य रूप से करायी जा रही है। दोनों संभागों में अभी एक भी प्रकरण पॉजिटिव नहीं पाया गया है।
कमिश्नर डॉ. भार्गव ने आमजन से अपील करते हुए कहा है कि भारत सरकार एवं प्रदेश सरकार द्वारा घोषित लॉकडाउन का पूरी तरह से पालन करें। घर से बाहर निकलने पर मास्क अथवा फेस कवर का अनिवार्य रूप से उपयोग करें। अधिक से अधिक समय घर पर रहने का प्रयास करें। अति आवश्यक सामग्री लेने के लिए यदि बाहर जाना पड़े तो सोशल डिस्टेंसिंग का अनिवार्य रूप से पालन करें। नियमित अंतराल के बाद 20 सेकण्ड तक साबुन से हाथ धोयें अथवा सेनेटाइजर से हाथों का शुद्धिकरण करें। साफ-सफाई का ध्यान रखने तथा उचित सावधानी बरतने पर कोरोना से संक्रमित 80 प्रतिशत रोगी बिना किसी दवा के स्वस्थ हो जाते हैं। जिन व्यक्तियों को ब्लड प्रेशर, डायबिटीज अथवा अन्य कोई गंभीर रोग होता है उन्हें ही कोरोना का संक्रमण होने पर जान का खतरा होता है।
कमिश्नर डॉ. भार्गव ने कहा है कि रीवा तथा शहडोल संभाग में स्वास्थ्य विभाग के समर्पित चिकित्सकों एवं पैरामेडिकल स्टाफ द्वारा कोरोना की जांच की जा रही है। इसके लिए आईसीएमआर द्वारा निर्धारित मापदण्डों का पूरी तरह से पालन किया जा रहा है। अब तक विदेश यात्रा से वापस लौटे 498 व्यक्तियों की जांच की जा चुकी है। दूसरे राज्यों से आने वाले व्यक्तियों की भी शत-प्रतिशत जांच की जा रही है। दोनों संभागों में हमारे मैदानी स्तर पर कर्मवीर योद्धा सतत अपने दायित्वों का निर्वहन कर रहे हैं। लॉकडाउन का कठोरता से पालन सुनिश्चित कराने के साथ-साथ आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति भी सुनिश्चित की गई है।
क्रमांक-119-1176-तिवारी-फोटो क्रमांक 01 संलग्न है।
महिला एवं बाल विकास विभाग कोविड-19 योद्धा कल्याण योजना में शामिल
कोविड-19 योद्धा कल्याण योजना में महिला बाल विकास को शामिल करें – कमिश्नर

रीवा 18 अप्रैल 2020. रीवा तथा शहडोल संभाग के कमिश्नर डॉ. अशोक कुमार भार्गव ने महिला एवं बाल विकास विभाग के अधिकारियों तथा कर्मचारियों को मुख्यमंत्री कोविड-19 योद्धा कल्याण योजना में शामिल करने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा है कि संभाग के संभी जिलों के कलेक्टर शासन द्वारा दिये गये निर्देशों के अनुरूप महिला एवं बाल विकास विभाग के अधिकारियों, पर्यवेक्षक, आंगनवाड़ी कार्यकर्ता, सहायिका तथा आउटसोर्स कर्मियों को इस योजना में शामिल करें। इन सभी को रैपिड रिस्पांस टीम में शामिल किया गया है। आंगनवाड़ी कार्यकर्ता तथा सहायिका घर-घर जाकर राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम के तहत पोषण आहार का वितरण कर रही हैं। इसके साथ-साथ ग्राम स्तर पर आम जनता विशेषकर महिलाओं को कोरोना से बचाव के संबंध में जागरूक कर रही हैं। इसे ध्यान में रखते हुए इन सभी को कोविड-19 योद्धा कल्याण योजना में शामिल करें।
कमिश्नर डॉ. भार्गव ने कहा कि राजस्व विभाग द्वारा 17 अप्रैल 2020 को मुख्यमंत्री कोविड-19 योद्धा कल्याण योजना के विस्तृत निर्देश जारी किए गए हैं। इसके प्रावधानों के अनुसार गृह, राजस्व, नगरीय प्रशासन के साथ-साथ कोरोना वायरस के विरूद्ध युद्ध में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले विभागों के अधिकारियों-कर्मचारियों को पात्र माना गया है। राज्य सरकार के सक्षम प्राधिकारी द्वारा अधिकृत किये जाने पर ही योजना का लाभ मिलेगा। महिला एवं बाल विकास विभाग द्वारा उनके विभाग के अधिकारियों, कर्मचारियों तथा आंगनवाड़ी कार्यकर्ता एवं सहायिका के संबंध में आदेश जारी कर दिये गये हैं। सभी कलेक्टर इनका पालन सुनिश्चित करते हुए इन्हें योजना से लाभान्वित करायें।

जिला तथा जनपद पंचायतों के लिए प्रशासकीय समिति गठन के निर्देश
जिला तथा जनपद पंचायत के अध्यक्ष होंगे प्रशासकीय समिति के मुखिया

रीवा 18 अप्रैल 2020. पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग के अपर मुख्य सचिव श्री मनोज श्रीवास्तव ने जिला पंचायत एवं जनपद पंचायत में प्रशासकीय समितियों के गठन के निर्देश दिए हैं। जारी निर्देशों के अनुसार जिला पंचायत एवं जनपद पंचायत का कार्यकाल पूरा होने के बाद प्रशासकीय समिति एवं प्रशासक नियुक्त करने संबंधी आदेश जारी किये गये थे। इस आदेश को निरस्त करते हुए वैकल्पिक व्यवस्था के रूप में जिला पंचायत तथा जनपद पंचायत में प्रशासकीय समिति के गठन के आदेश दिए गए हैं। जिला पंचायत तथा जनपद पंचायत के कार्यकाल समाप्ति के समय इनके अध्यक्ष रहे व्यक्ति ही प्रशासकीय समिति के मुखिया होंगे। जिसके अनुसार जिला पंचायत में जिला पंचायत अध्यक्ष तथा जनपद पंचायत में जनपद पंचायत अध्यक्ष प्रशासकीय समिति के मुखिया होंगे। 
जारी निर्देशों के अनुसार प्रशासकीय समिति का गठन मध्यप्रदेश पंचायतराज एवं ग्राम स्वराज अधिनियम 1993 के प्रावधानों के तहत किया गया है। प्रशासकीय समितियों का कार्यकाल निर्वाचन के पश्चात नवीन पंचायतों के गठन अथवा शासन के आदेश पर्यन्त रहेगा। जिला पंचायत की प्रशासकीय समिति का गठन संभाग के कमिश्नर करेंगे। जनपद पंचायत की प्रशासकीय समिति का गठन कलेक्टर द्वारा किया जायेगा। 

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना से जिले के किसानों को 18.88 करोड़ का बीमा लाभ मंजूर

रीवा 18 अप्रैल 2020. प्राकृतिक आपदा अथवा अन्य कारणों से फसलों को हानि होने पर फसल बीमा कराने वाले किसानों को प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना से सहायता राशि दी जाती है। इस योजना से रीवा जिले के 11 हजार 497 किसानों को 18 करोंड़ 88 लाख 92 हजार 600 रूपये का बीमा लाभ मंजूर किया गया है। इस संबंध में उप संचालक कृषि यूपी बागरी ने बताया कि यह राशि खरीफ फसल 2018 में कराये गये बीमा के लिये मंजूर की गई है। स्वीकृत राशि का वितरण संबंधित किसानों के बैंक खाते के माध्यम से किया जा रहा है। जिले के विभिन्न बैंकों की 142 शाखाओं को स्वीकृत राशि जारी कर दी गई है। इसे किसानों के बैंक खाते में अंतरित किया जा रहा है। इस संबंध में किसी तरह की कठिनाई होने पर किसान भाई बीमा कंपनी के प्रतिनिधि अनुराग अग्निहोत्री मोबाइल नम्बर 9713448383 पर संपर्क कर सकते हैं। 

Leave a Reply

Your email address will not be published.