भारत के उत्तर में और हिमालय की गोद में बसा नेपाल खूबसूरती के रंगों से भरपूर है।

स्वास्थ्य और सौन्दर्य

भारत के उत्तर में और हिमालय की गोद में बसा नेपाल खूबसूरती के रंगों से भरपूर है। यहाँ सब कुछ है जो आम सैलानियों की ख्वाहिश को पूरा करता है। नेपाल देवी-देवताओं का घर कहे जाने वाली विविधताओं से पूर्ण है। तो वहीं यहां बर्फ से ढकी कई पहाड़ियां,और तीर्थ स्थान भी हैं। यहां आप रोमांचक खेलों का भी लुत्फ़ उठा सकते हैं जैसे रिवर राफ्टिंग, क्लाइमबिंग, जंगल सफारी आदि खेल इसे रोमांचक बना देते हैं।

नेपाल खास तौर पर पहाड़ों की खूबसूरती के लिए बेहद प्रचलित है। देश का सबसे बड़ा पर्वत माउंट एवरेस्ट इसकी खूबसूरती में चार चांद लगा देता है। नेपाल भौगोलिक रूप से तीन भागों में विभाजित है शिवालिक क्षेत्र, पर्वतीय क्षेत्र, तराई क्षेत्र इन तीनों के मिश्रण से नेपाल उल्लेखनीय हो जाता है। नेपाल मे पशुपतिनाथ मंदिर स्थित है जो सैलानियों को अपनी ओर काफी आकर्षित करता है।

तो आज हम इस वीडियो में लेकर आएं है नेपाल से जुडी कुछ रोचक और खाश जानकारी, जिसे सुनकर और देखकर आप इस एक वीडियो में ही पुरे नेपाल की शैर कर लोगे , तो जुड़े रहिये वीडियो के लास्ट तक हमारे साथ।

नेपाल जाने के लिए किसी भी प्रकार का वीजा नहीं लगता। यहां जाने के लिए महत्वपूर्ण रूप से आपका अपना पासपोर्ट और कुछ पासपोर्ट साइज की फोटो और अपना वोटर आईडी तैयार रखें। विदेशी मुद्रा की बात करें तो नेपाल में भारतीय रुपया ही चलता है। रोचक बात यह है कि यदि आपके पास एसबीआई डेबिट कार्ड है तो आप एसबीआई बैंक से पैसे भी भुगतान कर सकते हैं।

नेपाल जाने के लिए किसी भी प्रकार का वीजा नहीं लगता। यहां जाने के लिए महत्वपूर्ण रूप से आपका अपना पासपोर्ट और कुछ पासपोर्ट साइज की फोटो और अपना वोटर आईडी तैयार रखें। विदेशी मुद्रा की बात करें तो नेपाल में भारतीय रुपया ही चलता है। रोचक बात यह है कि यदि आपके पास एसबीआई डेबिट कार्ड है तो आप एसबीआई बैंक से पैसे भी भुगतान कर सकते हैं।

नेपाल अपने पर्वतीय आकर्षण के साथ साथ आध्यात्मिक मंदिरों के लिए भी प्रसिद्ध है उन्हीं में से एक पशुपतिनाथ मंदिर जो नेपाल के सबसे पवित्र हिंदू मंदिरों में से एक है। जो काठमांडू शहर से 3 किलोमीटर दूर पूर्व में सुंदर और पवित्र बागमती नदी के किनारे पर बसा हुआ है। यह मंदिर भगवान शिव को समर्पित है जहाँ पर रोज हजारों की संख्या में भक्त आते हैं।

पशुपतिनाथ मंदिर आश्रमों के साथ एक बड़े हिस्से में फैला हुआ है जो यहां आने वाले पर्यटकों और तीर्थयात्रियों को एक अलग शांति का अनुभव करवाता है। साल 1979 में पशुपतिनाथ मंदिर को यूनेस्को की विश्व धरोहर स्थल में शामिल किया गया था। इस मंदिर के बारे में कहा जाता है कि इस मंदिर में स्थापित ज्योतिर्लिंग बॉडी का सिर है जो भारत के बारह ज्योतिर्लिंग से बना हुआ है। नेपाल में साल 2015 में एक भयंकर भूकंप आया था, जिसकी वजह से इस मंदिर की कुछ बाहरी इमारतें ध्वस्त हो थी लेकिन इस मंदिर का गर्भग्रह अब भी सुरक्षित है।

नेपाल शब्द हिन्दू संत “नेमी” के नाम पर प्रागैतिहासिक काल में रखा गया था जिन्होंने ना केवल काठमांडू की घाटी को बसाया बल्कि इसका संरक्षण भी किया था | स्कन्द पुराण के अनुसार ऋषि नेमी हिमालय में निवास करते थे |

एशिया के लगभग 7 करोड़ वर्ष पुराने हिमालय पर्वत पाँच देशो (भारत ,पाकिस्तान , चीन , नेपाल एवं भूटान) में फैले हुए है | हिमालय को हिन्दू मान्यता के अनुसार शिवजी का घर माना जाता है |

एशिया महाद्वीप की पाँच प्रमुख नदियों (गंगा ,ब्रह्मपुत्र , यांग्ची , सिन्धु) सभी का उद्गम स्थल हिमालय है इसलिए हिमालय बर्फ में विश्व का तीसरा बड़ा स्थान है जहां लगभग 15 हजार ग्लेशियर है जो अपने आप में 3000 क्यूबिक मील पानी समाये हुए है

नेपाल के उत्तर में स्थित सबसे अधिक पर्वतों वाले इलाके में विश्व के 10 सबसे ऊँचे पर्वतों में से आठ स्थित है जिसमे प्रसिद्ध माउंट एवेरेस्ट भी शामिल है | माउंट एवेरेस्ट की उंचाई 8848 मीटर है | इसे शेरपा लोग सागरमाथा कहकर पुकारते है

हिमालय पृथ्वी पर सबसे ऊँची झील (4800 मीटर ऊंचाई पर तिलिचो झील ) और सबसे गहरी झील (Shey Phoksundo) का घर है | सागरमाथा नेशनल पार्क के आसपास का इलाका इसी कारण 1976 से संरक्षित इलाके में आने लगा है

नेपाल में 5980 फूल वाले पौधों की प्रजातियाँ मौजूद है जिसमे से विश्व के 2 प्रतिशत आर्किड शामिल है | यहाँ मौजूद अनेको प्रजातियों के कारण नेपाल को एशिया का अमेजन भी कहते है |

नेपाल आज तक किसी भी देश का गुलाम नहीं हुआ है इस बजह से वहाँ स्वतंत्रा दिवस नहीं मनाया जाता है

Leave a Reply

Your email address will not be published.