बड़ी ख़बर : Indian Railways ने Lockdown में फंसे सभी लोगों के लिए Shramik special ट्रेनें शुरू की , जानिए क्या हैं नियम और शर्तें

COVID-19 भारत

कोरोना महामारी के कारण देश में लॉकडाउन (Lockdown) की वजह से अलग-अलग राज्‍यों में फंसे लोगों के लिए बड़ी खबर है। केंद्र सरकार ने उनके लिए 6 श्रमिक स्पेशल ट्रेन चलाने की अनुमति दे दी है। शुक्रवार को प्रधानमंत्री आवास पर हुई बैठक में इस बारे में फैसला हुआ। इस मीटिंग में पीएम नरेंद्र मोदी के अलावा, गृह मंत्री अमित शाह, रेल मंत्री पीयूष गोयल, चीफ ऑफ डिफेंस स्‍टाफ जनरल बिपिन रावत, कैबिनेट सचिव राजीव गौबा और पीएम के प्रधान सचिव पीके मिश्रा शामिल रहे।

मीटिंग के बाद रेल मंत्री पीयूष गोयल ने ट्वीट कर कहा कि लॉकडाउन के कारण देश के विभिन्न हिस्सों में फंसे नागरिकों को रेलवे द्वारा भेजे जाने की अनुमति देने के लिये पीएम नरेंद्र मोदी व गृहमंत्री अमित शाह का धन्यवाद। रेलवे ‘श्रमिक स्पेशल ट्रेन’ चला कर घर से दूर हुए लोगों को उनकी मंजिल तक पहुंचाना सुनिश्चित करेगी।

कोरोना के लक्षण न पाये जाने पर ही ट्रेन में सफर करने की अनुमति

गृह मंत्रालय ने कहा है कि दूसरे राज्यों में फंसे मजदूरों, छात्रों और अन्य लोगों को निकालने के लिए स्पेशल ट्रेन को भी सरकार ने अनुमति दी है. इसके लिए रेलवे बोर्ड व्यवस्था करेगा. रेल मंत्रालय की ओर से कहा गया है कि गंतव्य तक पहुंचने के बाद यात्रियों को राज्य की सरकार रिसीव करेगी और स्क्रीनिंग की जाएगी. अगर जरूरत होगी तो क्वारंटीन की व्यवस्था की जाएगी. भेजने वाले राज्य को भी यात्रियों की स्क्रीनिंग करनी होगी और कोरोना के लक्षण न पाये जाने पर ही ट्रेन में सफर करने की अनुमति होगी. राज्य की सरकार सैनिटाइज बस में यात्रियों को रेलवे स्टेशन तक लेकर आएगी और सोशल डिस्टैंसिंग का ध्यान रखा जाएगा. रेल मंत्रालय ने कहा है कि आज लिंगमपल्ली से हटिया, अलुवा से भुवनेश्वर, नासिक से लखनऊ, नासिक से भोपाल, जयपुर से पटना औ कोटा से हटिया के लिए स्पेशल ट्रेन चलेगी.

बिना कहीं रुके चलेगी ट्रेन

रेल मंत्रालय ने राज्यों से उनके यहां फंसे हुए छात्रों, मजदूरों और तीर्थयात्रियों की जानकारी जुटाने और ट्रेनों में बैठाने तक के क्वार्डिनेशन के लिए नोडल अधिकारी तय कर दिये हैं. गृह मंत्रालय के मुताबिक रेल मंत्रालय यात्रियों से किराये लेने, ट्रेन और स्टेशनों पर सोशल डिस्टेंसिंग से लेकर सेनेटाइजेशन तक की पूरी जानकारी साझा करेगा. रेल मंत्रालय की ओर से एग्जीक्यूटिव डायरेक्टर राजेश दत्त बाजपेई ने जानकारी दी कि श्रमिक दिवस पर श्रमिक स्पेशल ट्रेन चलाने का फैसला किया गया है. ताकि विभिन्न राज्यों में फंसे श्रमिक, छात्र और तीर्थ यात्री अपने गंतव्य तक सुरक्षित पहुंच सकें. ये स्पेशल ट्रेन सिर्फ एक गंतव्य से दूसरे गंतव्य तक बीच में बिना कहीं रुके चलेगी जिसमें दोनों राज्यों का सामंजस्य होगा.

मास्क पहनना अनिवार्य

रेलवे ने निर्णय लिया है कि सिर्फ स्वस्थ्य यात्री ही ट्रेन से सफर कर सकेंगे जिनकी स्क्रीनिंग की जिम्मेदारी शुरुआती गंतव्य वाले राज्य की होगी. ये सभी यात्री सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए पूरी तरह सेनेटाइज बसों के जरिए ही रेलवे स्टेशन तक लाए जाएंगे. हर यात्री को मास्क पहनना अनिवार्य होगा इसके अलावा ये राज्य की ही जिम्मेदारी होगी कि वे यात्रियों के लिए खाना और पानी पहले से ही उपलब्ध करा दे. इसके अलावा गंतव्य पर पहुंचने के बाद राज्य की ही जिम्मेदारी होगी कि वे उन यात्रियों की विधिवत स्क्रीनिंग करें और जरूरत हो तो क्वारेंटाइन की भी व्यवस्था करें.

गृहमंत्रालय की गाइड लाइंस और तमाम राज्य सरकारों से आए अनुरोध के बाद 1 तारीख को ये श्रमिक स्पेशल ट्रेनें चलाईं जा रही हैं…

  1. Lingampalli to Hatia
  2. Aluva to Bhubaneswar
  3. Nasik to Lucknow
  4. Nasik to Bhopal
  5. Jaipur to Patna
  6. Kota to Hatia

Leave a Reply

Your email address will not be published.