बड़ी ख़बर : उत्तर प्रदेश के CM योगी ने तबलीग़ी जमात के कुछ सदस्यों पर लगाया NSA

Coronavirus

गाजियाबाद के हॉस्पिटल में नर्सों के साथ जमातियों के दुर्व्यवहार पर उत्तर प्रदेश के सीएम योगी का कड़ा रुख़। 
‘ऐसी प्रवृत्ति के लोगों को बर्दास्त नहीं किया जायेगा होगी कड़ी कार्यवाही, उन्हें कानून का पालन करना सिखा देंगे’
गाजियाबाद के हॉस्पिटल में नर्सों के सामने कपड़े उतारने, अश्लील हरकत करने और बीड़ी-सिगरेट मांगे जाने की शिकायत आई थी सामने। 


उत्तर प्रदेश में ग़ाज़ियाबाद के एक हॉस्पिटल में इलाज के दौरान नर्सों के साथ बदतमीजी का आरोप तबलीग़ी जमात के कुछ सदस्यों पर लगा था. शुक्रवार को इस मामले में उत्तर प्रदेश की योगी सरकार कार्यवाही करते हुए अभियुक्तों के ख़िलाफ़ सख़्त नेशनल सिक्यॉरिटी एक्ट NSA के तहत  मुक़दमा पंजीकृत कर दिया है.

उत्तर प्रदेश की बीजेपी सरकार ने कहा है कि मध्यप्रदेश के इंदौर जैसी घटना उत्तर प्रदेश में नहीं होने दी जाएगी ना ही बर्दाश्त की जाएगी . जमात के कुछ सदस्यों पर आरोप है कि उन्हें ग़ाज़ियाबाद के सिटी हॉस्पिटल में जाँच के लिए लाया गया तो सुरक्षाकर्मियों और सरकारी अधिकारियों के साथ दुर्व्यवहार किया था.

इसके आलवा यह भी आरोप है कि अस्पताल में भर्ती किए जाने पर नर्सों के साथ भी बदतमीज़ी की. ग़ाज़ियाबाद में जमात के 156 लोगों को क्वारंटीन में रखा गया है. दिल्ली के निज़ामुद्दीन में जमात का एक धार्मिक आयोजन हुआ था और इसमें करीब 1500 से अधिक लोग कई देशों के शामिल होने की ख़बर आयी थी जिनमे कई लोग कोरोना वायरस से संक्रमित पाए गए है .

चीफ़ मेडिकल ऑफिसर एनके गुप्ता ने कहा है कि 90 लोगों को सुंदर दीप कॉलेज में और 56 लोगों को सूर्या हॉस्पिटल में क्वारंटीन में रखा गया है. बदतमीज़ी के आरोप एमएमजी अस्पताल में लगे हैं.

पूरे मामले को लेकर CM योगी आदित्यनाथ ने कहा है, ”ये न तो क़ानून का पालन करेंगे और न ही आदेश स्वीकार करेंगे. ये मानवता के दुश्मन हैं. इन्होंने महिला स्वास्थ्यकर्मियों के साथ जो किया है वो संगीन अपराध है. हम इन पर एनएसए लगा रहे हैं. इन्हें ऐसे ही नहीं छोड़ा जाएगा.”


अब जमातियों के साथ केवल पुरुष कर्मचारी रहेंगे मौजूद
गाजियाबाद में नर्सों के साथ अभद्रता की घटना के बाद  बड़ा फैसला लिया गया है। अब तबलीगी जमात के लोगों की चिकित्सा एवं सुरक्षा में महिला स्वास्थ्यकर्मी और महिला पुलिसकर्मी नहीं लगाई जाएंगी। इसके बजाये केवल पुरूष कर्मचारी ही मौजूद रहेंगे।🔽

Leave a Reply

Your email address will not be published.