बॉलीवुड अभिनेत्री कंगना ने पीएम मोदी का समर्थन करते हुए उनके आंसुओं को स्वीकार किया है।

नई दिल्ली बॉलीवुड न्यूज़

बॉलीवुड अभिनेत्री कंगना रनोट काफी सुर्खियों में रहती हैं। कंगना अक्सर अपने बेबाक बयानों की वजह से चर्चा का विषय बनी रहती हैं। कंगना अक्सर देश- दुनिया से जुड़े हुए समसामयिक मुद्दों पर अपनी प्रतिक्रिया देती रहती हैं। खासकर कंगना प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का समर्थन करने से कभी पीछे नहीं रहती हैं। अब हाल ही में कंगना ने एक बार फिर से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का समर्थन किया है।

दरअसल बीते दिन ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोविड-19 की दूसरी लहर पर अपने संसदीय क्षेत्र वाराणसी के स्वास्थ्यकर्मियों से बातचीत की थी। इस दौरान प्रधानमंत्री मोदी काफी भावुक हो गए थे और उनकी आंखों से आंसू भी छलक आए थे। जिसे लेकर कई लोगों ने पीएम को ट्रोल करना शुरू कर दिया था। वहीं अब कंगना ने पीएम मोदी का समर्थन करते हुए उनके आंसुओं को स्वीकार किया है।

कंगना ने अपने आधिकारिक इंस्टाग्राम अकाउंट की स्टोरी पर एक पोस्ट साझा की है। इसमें कंगना ने लिखा, ‘आंसू असली थे या नकली, आप आंसू के टेस्ट में उलझना चाहते हैं या आप किसी ऐसे व्यक्ति की भावनात्मक बुद्धिमत्ता और सहनशक्ति को स्वीकार करना चाहते हैं, जो दूसरों के दुःख से हिल जाता है या यह जानने के लिए परवाह करता है कि यह दर्द असहनीय होता है। उसे साझा करना होगा, वे आंसू एक अनजान घटना के रूप में हुए या वे सचेत प्रयास थे। यह कैसे मायने रखता है? क्या यह मायने रखता है? कुछ लोग हर समाधान के लिए समस्या ढूंढते हैं। मैं आपके आंसुओं को स्वीकार करती हूं प्रधानमंत्री मैं आपका दुख बांटती हूं….जय हिंद।’

बता दें कि कोरोना वायरस की दूसरी लहर के आने के बाद पीएम नरेंद्र मोदी कई लोगों के निसाने पर हैं। लोग उन्हें देशभर में अव्यवस्थित हो रहीं स्वास्थ्य व्यवस्थाओं को लेकर ट्रोल कर रहे हैं। इसी बीच जब बीते दिन पीएम मोदी ने अपने संसदीय क्षेत्र वाराणसी के स्वास्थ्यकर्मियों से बातचीत की तो वो उसे लेकर भी ट्रोलर्स के निशाने पर आ गए। इस बातचीत के दौरान पीएम मोदी भावुक हो गए और उन्होंने कोरोना के कारण जान गंवाने वालों को श्रद्धांजलि दी। चिकित्सकों को श्रद्धांजलि देते वक्त उनके आंसू छलक गए। जिसके बाद कई लोगों ने उनके आंसुओं को नौटंकी और नकली आंसू तक बता दिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.