बस्ती- सोनहा थाना क्षेत्र के करौता उर्फ करनपुर निवासी बलराम हत्याकांड का खुलासा पुलिस ने कर दिया है जिसमे उसकी बेटी और दामाद ने ही साजिश रचकर घटना को अंजाम दिया था।

उत्तरप्रदेश न्यूज़ भारत

बस्ती- सोनहा थाना क्षेत्र के करौता उर्फ करनपुर निवासी बलराम हत्याकांड का खुलासा पुलिस ने कर दिया है जिसमे उसकी बेटी और दामाद ने ही साजिश रचकर घटना को अंजाम दिया था।

अपने ससुराल गए थे बलिराम

बलिराम 21 तारीख को अपने ससुराल असुरैना शादी में शामिल होने गए थे जहां उनके साले शिवनारायण की बेटी की शादी थी और यहीं पर उनकी बेटी रेनू और दामाद भी शादी में शामिल होने आए थे। बलिराम की बेटी ने यह साजिश महीनों पूर्व रची थी क्योंकि रेनू के मामा ने उसके पति अरविंद को निमंत्रण नही दिया था लेकिन वह लड़ झगड़ कर अपने पति अरविंद निषाद को बुलाने के लिए निमंत्रण भेजवाया था ।

दोस्त के संघ दिया वारदात को दिया अंजाम

बलिराम के दामाद अरविंद निषाद बस्ती के पठान टोला का रहने वाला था यहां से वह अपने एक साथी राहुल जो उसी मोहल्ले का रहने वाला था उसको साथ लेकर शादी में शामिल होने मोटरसाइकिल से असुरैना गया था। शादी की रात जब वर वधू पक्ष के लोग शादी के जश्न में डूबे थे तब अरविंद उसकी पत्नी रेनू और उसका दोस्त राहुल बलिराम को मारने का षणयंत्र रच रहे थे।

ससुराल से लौटने वक्त रास्ते में दिया घटना को अंजाम

बलिराम रात को शादी की रस्में पूरी होने के बाद अपनी मोटरसाइकिल से करीब दो बजे के आसपास अपने घर करनपुर जा रहे थे जहां पहले से ही हत्या की साजिश रचने वाले अरविंद और राहुल उनके पीछे लग गए और मौका पाकर खैरा पुल पर ये दोनों अपने मकसद में कामयाब हो गए । पुलिस के पूछताछ के दौरान अरविंद ने बताया कि जब उसके ससुर बलिराम खैरा पुल के पास पहुंचे तो इनके ऊपर पत्थर फेंक दिया जिससे उनकी गाड़ी अनियंत्रित हो गई और वह सड़क के किनारे पत्थर पर गिर गए उसके बाद उसने गाड़ी से उतर के बलिराम के सिर के पीछे धारदार हथियार से हमला कर दिया जिससे मौके पर ही उनकी मौत हो गई।

शक के आधार पर पुलिस ने जब मृतक बलिराम के दामाद अरविंद से पूछताछ किया तो पहले वह पुलिस को गुमराह करता रहा उसके बाद पुलिस द्वारा कड़ाई करने के बाद उसने जुर्म कबूल कर लिया। पुलिस के पूछताछ में अरविंद ने बताया कि घटना को अंजाम देने के बाद वह रात में ही बस्ती के पठान टोला अपने साथी राहुल को छोड़ने चला गया और वहीं पर उसने अपने खून लगे शर्ट को छिपा दिया और उसके बाद राहुल का टीशर्ट पहनकर रात में ही आकर असुरैना पहुंच गया।

संपत्ति के लालच में दिया घटना को अंजाम

पुलिस के पूछताछ में अभियुक्त अरविंद ने बताया उनकी पत्नी यानी रेनू बलिराम की इकलौती पुत्री थी वहीं बलिराम के पास काफी संपत्ति थी जिसे वह अपने भाइयों से अच्छा तालमेल होने के नाते वह संपत्ति उन्ही को देना चाहता था जिसके लालच में आकर रेनू ने अपने पिता के हत्या की योजना तैयार कर दिया।

घटना में शामिल तीनों अभियुक्तों को शुक्रवार को सुबह अलग अलग जगह से गिरफ्तार कर तीनो अभियुक्तों के खिलाफ धारा 34,302,201,120(B) IPC में न्यायलय में पेश कर जेल भेज दिया गया।

गिरफ्तार करने वाली टीम में प्रभारी निरीक्षक सोनहा रामकृष्ण मिश्र ,उ0नि0 उमाशंकर त्रिपाठी ,उ0नि0 एखलाख अहमद ,का0 विनय कुमार कनौजिया ,का0 विवेक कुमार यादव ,रि0का0 शुभम दूबे ,महिला कांस्टेबल अनिता यादव शामिल रहे।

बस्ती से आल इंडिया न्यूज टुडे संवाददाता दुर्गेश श्रीवास्तव की रिपोर्ट

Leave a Reply

Your email address will not be published.