पुजारी को रीवा एसपी आबिद खान ने बेरहमी से मारा पीटा , पूजा स्थल को कुचला.

Coronavirus



सोशल मीडिया पर एक ख़बर बहुत तेजी से वायरल हुयी . इसमें कहा गया कि मंदिर में अकेले पूजा कर रहे थे पुजारी को रीवा एसपी आबिद खान ने बेरहमी से मारा पीटा , पूजा स्थल को कुचला. 
इसका टट्वीटर पर ट्रेंड चला आबिद खान को बर्खास्त करो 

लेकिन आज हम  आपको इस खबर की सच्चाई तक लेकर जायेंगे क्योंकि इसमें बहुत सारी बातें है वो झूठी कही गयी 



आखिर क्या है पूरी सच्चाई जानने के लिए जुड़े रहिये हमारे साथ 

इसमें क्या कुछ झूठा कहा गया सुनिए 

1. राम नवमी के अवसर पर पुजारी, आरती और कपूर लगाने के लिए अकेले आया था.
2. अचानक आई पुलिस ने पीटना शुरू कर दिया.
3. पूजा को खंडित किया गया. पूजा स्थल को पैर से कुचला गया.
4. ये सब करने वाला रीवा के एसपी आबिद खान को बताया गया.

स्थानीय लोगो के मुताबिक नवरात्री के अंतिम दिन यानि की राम नवमी के दिन शाम को आरती करने के लिए और माता को कपूर लगाने के लिए आया था तभी अचानक वहाँ पुलिस आ गयी और पुजारी को पीटना शुरू कर दिया ,
पुलिस ने आरती कपूर आदि फेक दिया और बेरहमी से पुजारी को पीटा जिस पुलिस ऑफिसर ने पुजारी को पीटा उसका नाम आबिद खान बताया गया 
और वो रीवा पुलिस अधीक्षक है और उनके बर्खास्त करने की मांग की गयी। .. 



लेकिन सच्चाई कुछ और ही है सच क्या है आईये जानते हैं 
1. तस्वीर में दिख रहे शख्स रीवा के एसपी आबिद खान नहीं हैं . वो मौके पर गए तक नहीं थे.
2. जो शख्स फोटो में नज़र आ रहा है. वो सिविल लाइन थाना प्रभारी राजकुमार मिश्रा हैं
3. पुजारी मंदिर में अकेले नहीं थे. महिलाओं की भीड़ इकट्ठा किए हुए थे.
4. एक्शन सिर्फ मंदिर पर नहीं मस्जिदों और मजारों पर भीड़ लगाने वालों पर भी लिया गया है.


तस्वीर और दावों का सच जानने के लिए हमने रीवा में  जुड़े पत्रकार से बात की. उन्होंने बताया, मामला बिलकुल ऐसा नहीं है जैसा बताया जा रहा है. रीवा के सिविल लाइन थाना क्षेत्र में एक जगह पड़ती है. ढेकहा, वहां पद्मधर कॉलोनी है, कॉलोनी के पास देवी मंदिर है. जहां लगातार लॉकडाउन का उल्लंघन हो रहा था.

पुजारी का नाम उपेंद्र कुमार पांडेय है. जिन्हें पहले भी तीन बार समझाइश दी गई थी कि वो भीड़ इकट्ठी न करें. 1 अप्रैल के दिन भी मौके पर कई महिलाएं एकत्रित थीं. जिन्हें भगाने के लिए बलप्रयोग हुआ. जो तस्वीरें नज़र आ रही हैं, उनमें भी पुजारी पर थाना प्रभारी उन्हीं की छड़ी से बलप्रयोग करते दिखे हैं.

मामले ने तूल पकड़ा तो रीवा रेंज के आईजी चंचल शेखर ने इस मामले में सिविल लाइन थाना प्रभारी राजकुमार मिश्रा पर अनुचित तरीका अपनाने के लिए करने के लिए तत्काल लाइन अटैच कर दिया.
आईजी रीवा रेंज से हमने दूसरे धार्मिक स्थलों पर लिए गए एक्शन के बारे में पूछा तो उन्होंने बताया कि घोघर और बिछिया की दो मस्जिदों पर भी ऐसी ही कार्रवाई की गई थी. वहां भी नमाज पढ़ने के लिए 40-50 लोग एकत्र हुए थे, जिन पर धारा 188 के तहत एक्शन लिया गया. मीडिया रिपोर्ट्स में आंकड़ा मिला कि एसपी आबिद खान की अगुआई में मस्जिद से 36 और मजार से 10 लोगों को पकड़ा गया था.

अंत में कॉमन सेन्स के निहितार्थ :


एक तरफ पिटाई करने वाले टीआई और दूसरी तरफ एसपी रीवा की तस्वीर है, जो पहले गूगल सर्च पर मिलती है. अगर ट्विटर पर दौड़ने के पहले लोगों ने एक बार यही देख लिया होता या टीआई साहब के कांधे के तारे गिन लिए होते तो फजीहत से बच जाते.



Leave a Reply

Your email address will not be published.