जीवन के लिए जरूरी और धरती का श्रृंगार है पौधे- राजेंद्र शुक्ला

न्यूज़ भारत मध्यप्रदेश न्यूज़

जीवन के लिए जरूरी और धरती का श्रृंगार है पौधे- राजेंद्र शुक्ला

ग्रीन रीवा अभियान : उप संचालक पशुपालन एवं डेयरी विभाग में रोपे गए फलदार पौधे

रीवा । अनवरत पौधारोपण किये जाने से अब रीवा में एक अच्छा माहौल बन गया है, जो हमें उस संकल्प को पूरा करने में सहायक होगा जिससे हम रीवा को देश का सबसे ज्यादा हरा-भरा नगर बना सकें। अब प्रत्येक व्यक्ति को समझना ही होगा कि जीवन जीने के लिए तो अत्यावश्यक है अधिकाधिक पौधों का होना साथ ही पृथ्वी का श्रृंगार है पौधे। इसलिए हर व्यक्ति जहां जगह हो पौधारोपण करे और उसे बड़ा होने तक ध्यान दे।

उक्त सारगर्भित विचार पूर्व मंत्री मध्यप्रदेश शासन एवं रीवा विधायक राजेन्द्र शुक्ला ने चिरहुला कालोनी के समीप पशु चिकित्सा एवं डेयरी विभाग में पौधारोपण के उपरान्त आयोजित समारोह में व्यक्त किये। श्री शुक्ल ने ग्रीन रीवा अभियान के प्रभारी डॉ मुकेश येंगल के कार्यो की खुलकर सराहना की। इस अवसर पर उप संचालक पशु चिकित्सा डॉ राजेश मिश्रा, ग्रीन रीवा प्रभारी डॉ मुकेश येंगल, डीन वेटनरी कालेज डॉ एस एस तोमर, राजेश पाण्डेय, डॉ अरुणेन्द्र शुक्ला एवं डॉ राजा भैया मिश्रा ने भी अपने विचार व्यक्त किये। समारोह के पूर्व विधायक राजेन्द्र शुक्ला द्वारा परिसर में भगवान शिव मंदिर में पूजा अर्चना की गई। समारोह में विभाग की डॉ निशा पटेल द्वारा पर्यावरण से सम्बंधित कविता प्रस्तुत की गई। स्वागत उदबोधन उप संचालक डॉ राजेश मिश्रा द्वारा दिया गया।

आयोजित समारोह में पशुपालन विभाग की स्वरोजगार योजना ” मैत्री स्थापना ” के तहत जिले में प्रशिक्षित मैत्रियो को 50,000 रुपये लागत की किट का वितरण किया गया। इस अवसर पर पशुपालन संवर्धन समिति के उपाध्यक्ष राजेश पाण्डेय, हार्टिकल्चर विभाग के शिवम पाठक, डॉ शिरीष दुबे, हाउसिंग बोर्ड के अनुज सिंह, पीडब्ल्यूडी के ,केके गर्ग, सी एम द्विवेदी, डॉ आशुतोष सिंह, डॉ के बी सिंह, डॉ डी पी सिंह, डॉ अरुणेन्द्र सिंह, डॉ मुकेश येंगल, राजेन्द्र निगम, प्रतीक पाण्डेय, प्रवीण पाठक, अमित अवस्थी, डॉ दिलीप सेन, शाहिद परवेज़, सहित पशु चिकित्सा एवं डेयरी विभाग के समस्त अधिकारी एवं कर्मचारी उपस्थित रहे। सभी अधिकारियों एवं कर्मचारियों ने भी परिसर में आम, अमरूद सहित 80 फलदार पौधों का रोपण किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.