किसानों से लूट:बिना लाइसेंस सैकड़ों दुकानों में हाइब्रिड के नाम पर चना गेहूं मसूर सरसों का खराब बीज बिक रहा

न्यूज़

सतना जिले में एक लाख 80हजार हेक्टेयर में गेहूं की फसल एवं 80हजार हेक्टेयर में दलहन की फसल जिले में बोने का अनुमान है किसान खरीद रहे 50 करोड़ के ऊपर बीज खाद
4 महीने पहले
बिना लाइसेंस 200 दुकानों में हाइब्रिड के नाम पर गेहूं व चना मशहूर सरसों का खराब बीज बिक रहा, बोनी शुरू होने के पहले अवैधानिक तरीके से नई दुकानें खुल जाती जिनके पास लाइसेंस तक नहीं होता घटिया किस्म के बीज एवं मिलावटी खाद किसानों को बिक्री कर देते हैं जिससे जिले में करोड़ों का नुकसान हो जाता है
ज्यादातर दुकानदार कमीशन के चक्कर में बेचते हैं घटिया बीज, बेचने वाले दुकानदारों के ऊपर कृषि विभाग नहीं करता कार्रवाई

बोनी शुरू होने के पहले किसानों को खाद और बीज की जरूरत होती है। करीब लाखों किसानों को करोड़ों का बीज सीजन में खरीदते हैं। बीच सही मिले यह जिम्मेदारी कृषि विभाग की है। इसी विभाग को नकली और घटिया बीज बेचने वाले दुकानदारों पर कार्रवाई करनी होती है। बता दें कि सतना नागौद तहसील सब्जी मंडी में नकली खाद नकली बीज सभी दुकानों में उपलब्ध है कृषि विभाग का अमला जांच करने का प्रयास नहीं किया और आसपास के गांवों में बिना लाइसेंस वाली दुकानों में सीजन शुरू होने से पहले ही कई कंपनियों ने हाइब्रिड गेहूं और चना सरसों मसूर का बीज पहुंचा दिया है। खास बात यह है कि ऐसे दुकानदारों और शहर में ऐसा बीज रखने वाले गोदामों पर विभाग ने अब तक छापामार कार्रवाई शुरू नहीं की है। बता दें कि जिले में लगभग 300 दुकानों को ही बीज बेचने का लाइसेंस जारी किया गया है। जबकि दो सौ से अधिक दुकानें बिना लाइसेंस संचालित हैं।नयाइंडिया ने किसानों के साथ बीज के नाम होने वाली धोखाधड़ी की पड़ताल की। इसमें खुलासा हुआ कि कई कंपनियां दुकानदारों को अधिक कमीशन का लालच देकर हाइब्रिड के नाम पर घटिया बीज बिक्री कराती हैं। जबकि इनमें अधिकतर कंपनियों का कृषि विभाग में रजिस्ट्रेशन नहीं है।

1लाख80हजार हेक्टेयर में इस साल गेहूं चना सरसों की खेती का लक्ष्य सतना में

लाखों से अधिक किसान सतना में करते हैं सरसों चना मशहूर की पैदावार

कई करोड़ का सतना में बिकता है
हाइब्रिड गेहूं चना सरसों मसूर का बीज

दुकानदार खाद और बीज खरीदने पर बिल नहीं देते

किसानों ने बताया कि जब वे बीज खरीदते हैं तो उन्हें अधिकतर दुकानदार बिल ही नहीं देते हैं। इसके चलते जब बीज की सही गुणवत्ता नहीं होने की शिकायत करना चाहते हैं, तो बिल की मांग की जाती है। इसके कारण खराब बीज बेचने वालों पर कार्रवाई नहीं हो पाती है। इतना ही नहीं कई लाइसेंसधारी दुकानदार भी लालच में घटिया बीज बेच रहे हैं। उन्होंने अपनी दुकान का बीज खपाने के लिए गांवों में बिचौलियों को रखा है।

बताते हैं कि जो बीज दुकानों पर बिक रहा है। जानकारी नहीं होने के कारण किसान वो ही खरीद रहे हैं। कुछ किसानों ने बताया कि उनके साथ कई बार धोखा हुआ है। हाइब्रिड बीज के नाम पर दुकानदार बीज बेचते हैं। लेकिन गेहूं चना मसूर पैदावार की मात्रा बहुत कम होती है
सतना जिले के कई किसानों के साथ पिछले साल ऐसा हुआ था, लेकिन कार्रवाई नहीं हुई। कुछ व्यापारियों का कहना है कि लाइसेंस की प्रकिया में अधिकारियों द्वारा उलझा कर रखा जाता है।

समितियों के दलाल किसानों को बेच रहे बीज
जिले के नागौद तहसील अंतर्गत मामा खाद प्रकाश बीज भंडार गुरुकृपा बीज भंडार जैसे दुकानदार नकली दवाइयां नकली खाद बीजों का कारोबार करते हैं लेकिन आज तक कोई कार्यवाही नहीं भाई

घटिया बीज खाद बेचने वालों के खिलाफ होगी कार्रवाई

बिना लाइसेंस व घटिया बीज बेचने वालों पर कार्रवाई की जाएगी। किसानों के साथ धोखा नहीं होने दिया जायेगा। टीमें गठित की गई है। गांवों में भी अवैध दुकानों पर कार्रवाई होगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.