आखिर क्यों शिव जी को बनना पड़ा था शिवलिंग?, बहुत रोचक है कथा

Articles रोचक तथ्य हिंदी साहित्य

भोले बाबा को देवों का देव कहा जाता है। आप सभी ने हर वेद और पुराण में भगवान शिव को महाकाल और सृष्टि के निर्माता के रुप में देखा गया है लेकिन क्या आपने कभी उनके जन्म से जुडी कोई कथा या कहानी सुनी है? शायद नहीं। जी दरअसल भगवान शिव को निरंकार माना जाता है। वहीं निरंकार उसे कहा जाता है जिसका कोई रुप नहीं होता है। ऐसी मान्यता है कि भगवान शिव ने ही सृष्टि के निर्माण के बारे में सोचा था और इसके बाद उन्होनें भगवान विष्णु को जन्म दिया। कहा जाता है भगवान विष्णु की नाभि से ब्रह्मा जी उत्पन्न हुए और वह दोनों इतने शक्तिशाली थे कि दोनों के बीच में कई बार इस बात को लेकर युद्ध हो जाता था कि कौन सबसे ज्यादा शक्तिशाली है।

ऐसे में एक बार ये युद्ध इतना बढ़ गया कि करीब 10 हजार सालों तक चला। कहा जाता है भगवान शिव इस युद्ध को रोकने के लिए इन दोनों के बीच में एक पत्थर के रुप में आ गए। ऐसी मान्यता है कि इस पत्थर में से बहुत शक्तिशाली ज्वाला निकल रही थी। उसी समय आकाशवाणी हुई और उसमें कहा गया कि जो इस शिवलिंग का आरंभ या अंत पा लेगा वो ही सबसे ज्यादा शक्तिशाली माना जाएगा। आप सभी को बता दें कि भगवान विष्णु ने नीचे का हिस्सा चुना और ब्रह्मा जी ने लिंग का ऊपरी हिस्से को चुना। ऐसे में कई वर्षों तक भगवान विष्णु को कोई उपाय नहीं मिला तो वो भगवान शिव के पास गए और उनसे कहा कि मुझे माफ कर दीजिए इसका कोई अंत नहीं है। ये मेरी अज्ञानता थी कि मैं अपने आपको सबसे शक्तिशाली मानता था।

वहीं ब्रह्मा जी ने लिंग का आरंभ चुना था, उन्हें आरंभ तो नहीं मिला लेकिन उन्होनें सोचा कि मैं झूठ बोल दूंगा कि मुझे आरंभ मिल गया है और फिर सबसे शक्तिशाली घोषित कर दिया जाएगा। ऐसे में ब्रह्मा जी ने जाकर कहा लेकिन तभी आकाशवाणी हुई कि ये शिवलिंग है और मेरा कोई आकार नहीं है, मैं निरंकार हूं। भगवान शिव सच्चाई जानते थे और उन्होनें भगवान विष्णु को आशीर्वाद दिया और ब्रह्मा जी को श्राप दे दिया। कहा जाता है उस समय भगवान शिव ने कहा कि ब्रह्मा जी की कभी पूजा नहीं की जाएगी, ब्रह्म जी को अपनी गलती का अहसास हुआ और उन्होनें माफी मांगी। वहीं इसके बाद से भगवान शिव को शिवलिंग के रुप में पूजा जाने लगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.