अरब सागर में मची है उथल-पुथल, मानसून पर होगा ‘साइक्लोन’ का असर?

नई दिल्ली न्यूज़

नई दिल्ली, 15 मई। कोरोना संकट के बीच भारत पर साइक्लोन का खतरा मंडरा रहा है। IMD ने अपने ताजा अपडेट में कहा है कि इस वक्त अरब सागर में उथल-पुथल मची हुई है, एक लो प्रेशर एरिया विकसित हो सकता है, जो कि 16 मई को शक्तिशाली चक्रवात में तब्दील हो सकता है। मौसम विभाग ने ताजा अपडेट में कहा है कि तूफान की असर मानसून पर पड़ सकता है लेकिन अभी से इस बारे में कुछ कहा नहीं जा सकता है क्योंकि मौसम कि गतिविधियां पल-पल बदलती हैं, ऐसे में तूफान के आने के बाद ही इस बारे में सही अनुमान लगाया जा सकता है।

कोरोना संकट के बीच मंडराया ‘साइक्लोन’ का खतरा
अरब सागर में मची है उथल-पुथल

अभी की स्थिति के हिसाब से यही कहा जा सकता है कि साइक्लोन के कारण महाराष्ट्र केरल, कोंकण, गोवा, कर्नाटक, तमिलनाडु, गुजरात, आंध्र प्रदेश में भारी बारिश की आशंका है। इस दौरान समुद्र में गहरी लहरें उठ सकती है और तेज हवाएं चल सकती है, जिसगी गति 50-60 किमी प्रति घंटा हो सकती है। इसलिए मछुआरों के लिए अलर्ट जारी किया गया है और उन्हें समुद्र में जाने से रोका गया गया है।

मछुआरों के लिए अलर्ट जारी किया गया
भारी बारिश की आशंका
अभी की स्थिति के हिसाब से यही कहा जा सकता है कि ‘साइक्लोन’ के कारण महाराष्ट्र केरल, कोंकण, गोवा, कर्नाटक, तमिलनाडु, गुजरात, आंध्र प्रदेश में भारी बारिश की आशंका है। इस दौरान समुद्र में गहरी लहरें उठ सकती है और तेज हवाएं चल सकती है, जिसगी गति 50-60 किमी प्रति घंटा हो सकती है। इसलिए मछुआरों के लिए अलर्ट जारी किया गया है और उन्हें समुंद्र में जाने से रोका गया गया है।

साल 2021 का पहला ‘चक्रवाती तूफान’ है
1 जून को इस बार मानसून केरल पहुंचेगा
आपको बता दें कि यह साल 2021 का पहला ‘चक्रवाती तूफान’ है, जिसका नाम म्यांमार ने ‘टूकटा’ रखा है जिसका अर्थ होता है ‘गेको’ यानी कि ‘गर्म जलवायु में पाइ जाने वाली घरेलू छिपकली’। मालूम हो कि मौसम विभाग ने भविष्यवाणी की है कि 1 जून को इस बार मानसून केरल पहुंचेगा और इस बार मानसून सीजन काफी अच्छा रहेगा।

हिमाचल में Orange Alert जारी
नार्थ-ईस्ट से आने वाले तूफान को ‘टायफून’ कहते हैं

मालूम हो कि दरअसल लो एयर प्रेशर की वजह से वायुमंडल में व्याप्त गर्म हवा तेज आंधी में तब्दील हो जाती है, जिसे कि ‘चक्रवात’ का जाता है। भारत और दुनिया भर के तटीय इलाके हमेशा ‘चक्रवाती तूफानों’ से जूझते रहते हैं, इनके नाम जगह के हिसाब से अलग-अलग होते हैं, कहीं इन्हें साइक्लोन, कहीं ‘हरिकेन’ और कहीं ‘टाइफून’ कहा जाता है। इंडिया में तूफान हिंद या साउथ प्रशांत महासागर से आते हैं इस वजह से इन्हें ‘साइक्लोन’ की संज्ञा दी जाती है, जबकि नार्थ-ईस्ट सागर से आने वाले तूफान को हरिकेन और नार्थ-वेस्ट से आने वाले तूफान को ‘टायफून’ कहते हैं।

हिमाचल में Orange Alert जारी

आईएमडी के मुताबिक अगले 24 घंटों मे केरल दिल्ली,-एनसीआर में एमपी, बिहार, झारखंड, कर्नाटक, पश्चिम बंगाल और ओडिशा में भारी बारिश हो सकती है, तो वहीं पहाड़ों पर मौसम बिगड़ सकता है। मौसम विभाग ने उत्तराखंड में ‘यलो अलर्ट’ और हिमाचल में Orange Alert जारी किया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.