अमेरिका, ब्रिटेन और सिंगापुर की तरह ग्लोबल फाइनेंस को दिशा दे रहा है भारत : PM मोदी

नई दिल्ली न्यूज़ भारत

पीएम मोदी ने शुक्रवार को गांधीनगर में गिफ्ट सिटी का दौरा किया। गिफ्ट सिटी (गुजरात इंटरनेशनल फाइनेंस टेक-सिटी) को दुनिया के लिए वित्तीय और प्रौद्योगिकी सेवाओं के एक एकीकृत केंद्र के रूप में परिकल्पित किया गया था।



आधुनिक होते भारत के नए संस्थान और नई व्यवस्थाएं भारत का बढ़ा रही हैं गौरव

पीएम मोदी ने कहा कि ऐसे समय में जब भारत अपनी आजादी का अमृत महोत्सव मना रहा है, तब आधुनिक होते भारत के नए संस्थान और नई व्यवस्थाएं भारत का गौरव बढ़ा रही हैं। भारत अब अमेरिका, ब्रिटेन और सिंगापुर जैसे दुनिया के उन देशों की कतार में खड़ा हो रहा है, जहां से ग्लोबल फाइनेंस को दिशा दी जाती है।



पिछले 8 साल में देश ने वित्तीय समावेश की एक नई लहर देखी

यहां आयोजित कार्यक्रम को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि पिछले 8 साल में देश ने वित्तीय समावेश की एक नई लहर देखी है। गरीब से गरीब भी आज औपचारिक वित्तीय व्यवस्था से जुड़ रहा है। आज जब हमारी एक बड़ी आबादी वित्तीय व्यवस्था से जुड़ गई है तो ये समय की मांग है कि सरकारी संस्थाएं और प्राइवेट प्लेयर्स, मिलकर कदम आगे बढ़ाएं।



लोकल उत्पादों को ग्लोबल वेलफेयर के लिए कर रहे प्रोत्साहित

उन्होंने कहा कि हम स्थानीय और वैश्विक सहयोग दोनों के महत्व को समझते हैं। हम एक ओर ग्लोबल कैपिटल को वेलफेयर के लिए ला रहे हैं तो दूसरी ओर लोकल उत्पादों को ग्लोबल वेलफेयर के लिए प्रोत्साहित कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि आज भारत में रिकॉर्ड विदेशी निवेश आ रहा है। ये इन्वेस्टमेंट देश में नए अवसर पैदा कर रहा है। युवाओं की आकांक्षाओं को पूरा कर रहा है। ये हमारे उद्योग को ऊर्जा दे रहा है, हमारी उत्पादकता को बढ़ा रहा है।



भारत की सफलता सेवा का पर्याय

पीएम मोदी ने भारत की सफलता को सेवा का पर्याय बताया। उन्होंने कहा कि जन कल्याण से जग कल्याण, ये हमारी भावना है। भारत सतत विकास के क्षेत्र में वैश्विक संभावनाओं का नेतृत्व कर रहा है। हमने अपने लिए शून्य कार्बन उत्सर्जन का लक्ष्य तय किया है। राष्ट्रीय स्तर पर हम गति शक्ति मास्टर प्लान को आगे बढ़ा रहे हैं। रिन्यूएबल एनर्जी और ई-मोबिलिटी के नए रिकार्ड्स बना रहे हैं। अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भारत अंतरराष्ट्रीय सोलर एलायंस को दिशा दे रहा है।



21वीं सदी में वित्त और तकनीक एक दूसरे से जुड़े हुए

उन्होंने कहा कि आज 21वीं सदी में वित्त और तकनीक एक दूसरे से जुड़े हुए हैं। विज्ञान और सॉफ्टवेयर में भारत अग्रणी और अनुभवी भी है। आज तुरंत डिजिटल पेमेंट में पूरी दुनिया में 40 प्रतिशत हिस्सेदारी अकेले भारत की है। गिफ्ट सिटी वाणिज्य और तकनीक के हब के रूप में अपनी मजबूत पहचान बना रहा है। गिफ्ट सिटी के जरिए भारत विश्व स्तर पर सर्विस सेक्टर में मजबूत दावेदारी के साथ आगे बढ़ रहा है।



गिफ्ट सिटी की परिकल्पना में देश के सामान्य मानवी की आकांक्षाएं जुड़ीं

गिफ्ट सिटी की परिकल्पना का जिक्र करते हुए मोदी ने कहा कि इससे जुड़ी सोच केवल व्यापार, कारोबार या आर्थिक गतिविधियों तक सीमित नहीं थी। गिफ्ट सिटी की परिकल्पना में देश के सामान्य मानवी की आकांक्षाएं जुड़ी हैं। गिफ्ट सिटी में भारत के भविष्य का विजन जुड़ा है। भारत के स्वर्णिम अतीत के सपने भी जुड़े हैं।



गिफ्ट सिटी की खासियत

उन्होंने कहा कि गिफ्ट सिटी की एक और खासियत है कि यह ट्राइसिटी एप्रोच का प्रमुख स्तम्भ है। अहमदाबाद, गांधीनगर और गिफ्ट सिटी तीनों एक दूसरे से सिर्फ 30 मिनट की दूरी पर हैं और तीनों की ही अपनी एक विशेष पहचान है। अहमदाबाद एक गौरवशाली इतिहास को अपने आप में समेटे हुए है। गांधीनगर प्रशासन, नीति और निर्णयों के केंद्र है। गिफ्ट सिटी अर्थतन्त्र का प्रमुख केंद्र है।



इस दौरान प्रधानमंत्री ने अंतरराष्ट्रीय वित्तीय सेवा केंद्रों (आईएफएससी) में वित्तीय उत्पादों, वित्तीय सेवाओं और वित्तीय संस्थानों के विकास और विनियमन के लिए एकीकृत नियामक, अंतरराष्ट्रीय वित्तीय सेवा केंद्र प्राधिकरण (आईएफएससीए) के मुख्यालय भवन की आधारशिला रखी। एक प्रतिष्ठित संरचना के रूप में इमारत की अवधारणा तैयार की गई है, जो एक अग्रणी अंतरराष्ट्रीय वित्तीय केंद्र के रूप में गिफ्ट-आईएफएससी की बढ़ती प्रमुखता और महत्व को दर्शाता है।



आईआईबीएक्स का शुभारंभ

प्रधानमंत्री ने इंडिया इंटरनेशनल बुलियन एक्सचेंज (आईआईबीएक्स), जो कि जीआईएफटी-आईएफएससी में भारत का पहला अंतरराष्ट्रीय बुलियन एक्सचेंज है, का शुभारंभ किया। आईआईबीएक्स भारत में सोने के वित्तीयकरण को बढ़ावा देने के अलावा, जिम्मेदार सोर्सिंग और गुणवत्ता के आश्वासन के साथ मूल्य संवर्धन का पता लगाने की सुविधा प्रदान करेगा। यह भारत को वैश्विक सर्राफा बाजार में अपना सही स्थान हासिल करने के साथ-साथ निष्ठा और गुणवत्ता के साथ वैश्विक मूल्य श्रृंखला को अपना उद्देश्य

पूरा करने के लिए सशक्त बनाएगा। आईआईबीएक्स भारत को एक प्रमुख उपभोक्ता के रूप में वैश्विक सर्राफा कीमतों को प्रभावित करने में सक्षम बनाने के लिए भारत सरकार की प्रतिबद्धता पर फिर से जोर देता है।

प्रधानमंत्री ने वैश्विक अर्थव्यवस्था में बड़ी भूमिका निभाने के लिए इससे जुड़े संस्थानों की आवश्यकता पर बल दिया। उन्होंने कहा कि आज भारत दुनिया की सबसे बड़ी अर्थव्यवस्थाओं में से एक है। इसलिए भविष्य में जब हमारी अर्थव्यवस्था आज से भी कहीं ज्यादा बड़ी होगी, हमें उसके लिए अभी से तैयार होना होगा। हमें ऐसे संस्थान चाहिए, जो वैश्विक अर्थव्यवस्था में हमारे आज के और भविष्य के रोल को निभाने में मददगार हो सकें।



सोना भारत में महिलाओं की आर्थिक शक्ति का माध्यम

पीएम मोदी ने कहा कि इंडिया इंटरनेशनल बुलियन एक्सचेंज इसी दिशा में एक कदम है। सोने के लिए भारत के लोगों का प्यार किसी से छिपा नहीं है। सोना भारत में महिलाओं की आर्थिक शक्ति का माध्यम रहा है। महिलाओं के विशेष स्नेह के कारण सोना हमारे समाज और सांस्कृतिक व्यवस्था का भी उतना ही अहम हिस्सा रहा है। ये एक बड़ी वजह है कि भारत आज सोने-चांदी के क्षेत्र का एक बहुत बड़ा मार्केट है। भारत की पहचान एक बाजार तैयार करने की भी होनी चाहिए, आईआईबीएक्स इसी दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम है।



प्रधानमंत्री ने एनएसई आईएफएससी-एसजीएक्स कनेक्ट का भी शुभारंभ किया। यह गिफ्ट इंटरनेशनल फाइनेंशियल सर्विसेज सेंटर (आईएफएससी) और सिंगापुर एक्सचेंज लिमिटेड (एसजीएक्स) में एनएसई की सहायक कंपनी के बीच एक कार्यक्रम है। कनेक्ट के तहत, सिंगापुर एक्सचेंज के सदस्यों द्वारा दिए गए निफ्टी डेरिवेटिव पर सभी ऑर्डर एनएसई-आईएफएससी ऑर्डर मैचिंग और ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म रूट पर मैच किए जाएंगे। भारत और अंतरराष्ट्रीय न्यायालयों के ब्रोकर-डीलरों से कनेक्ट के माध्यम से ट्रेडिंग डेरिवेटिव के लिए बड़ी संख्या में भाग लेने की उम्मीद है। यह गिफ्ट-आईएफएससी में व्युत्पन्न बाजारों में तरलता को बढ़ाकर अधिक अंतरराष्ट्रीय प्रतिभागियों को लाएगा और गिफ्ट-आईएफएससी में वित्तीय इकोसिस्टम पर सकारात्मक प्रभाव पैदा करेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.